उत्तराखंड

सनातन को मजबूत करने के काम में लगी है भाजपा:त्रिवेंद्र

हरिद्वार। संतों के सानिध्य और भाजपा उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष श्री महेंद्र भट्ट और पूर्व सीएम व प्रत्याशी हरिद्वार लोकसभा श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की उपस्थिति में आज हरिद्वार में परमाध्यक्ष चेतन ज्योति स्वामी ऋषिश्वरानन्द जी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता श्री पुरुषोत्तम शर्मा के नेतृत्व में उनके हजारों समर्थक मोदी जी के परिवार शामिल हो गए।

हरिद्वार से प्रत्याशी व पूर्व सीएम त्रिवेंद्र और प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र भट्ट ने भाजपा में शामिल होने पर पुरुषोत्तम शर्मा और अन्य सभी समर्थकों का स्वागत और अभिनंदन किया। इस अवसर पर भाजपा प्रत्याशी और पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि मोदी परिवार में शामिल होने वाले सभी लोगों ने भाजपा के प्रति अपने आस्था और विश्वास व्यक्त किया है निश्चित तौर पर आने वाले चुनाव में इसका फायदा पार्टी को होगा। अब आप सभी मोदी जी के विकसित भारत के संकल्प में एक सहयोगी बनकर अपना योगदान देंगे।

अभी तक बसपा सपा लोकदल और कांग्रेस से करीब 20000 लोग भाजपा में शामिल हुए। यह सनातनी धारा का प्रवाह है । सनातन अनादि और अनंत है। हमारे संत सनातन को आगे ले जाने के ध्वजवाहक के रूप में कार्य कर रहे हैं। आने वाले समय में भारत ही नहीं पूरे विश्व को सनातनी धारा के प्रवाह में शामिल होना पड़ेगा, क्योंकि मानव जाति का उत्थान केवल सनातन ही कर सकता है। इस बात को आज दुनिया समझ रही है ।
उन्होंने कहा कि दुनिया में तमाम तरह की संस्कृति है। हमारी संस्कृति सनातन को मिटाने के अनेक कोशिश हुई लेकिन कोई हमारी हस्ती को नहीं मिटा सका। उस पर चोट जरूर की। आज भी हमारा सनातन धर्म मजबूती से खड़ा है। आज केवल बीजेपी ही सनातन धर्म को मजबूत करने के कार्य में लगी हुई है। यही वजह है कि आज तमाम लोग भाजपा की धारा में शामिल हो रहे हैं। बीजेपी एक ऐसा समुद्र है जिसमें तमाम तरह के रत्न मिल रहे हैं।
त्रिवेंद्र ने कहा कि पिछले चुनाव में हरिद्वार से भाजपा को ढाई लाख से अधिक मतों से जीत मिली थी, इस चुनाव में हमें उम्मीद है कि जिस तरह से हजारों लोग भाजपा के पक्ष में एकजुट और एकमुठ होकर कार्य कर रहे हैं भाजपा 5 लाख से ज्यादा मतों के अंतर से विजयी होगी। इस अवसर पर भाजपा के जिला अध्यक्ष संदीप गोयल, विधायक व पूर्व मंत्री मदन कौशिक, आदेश चौहान पूर्व विधायक संजय गुप्ता व स्वामी यतीश्वरानंद के साथ ही पूज्य संत समाज मौजूद रहा।

Related Articles

Back to top button