उत्तराखंड

उत्साह:निरंकारी मिशन का सफाई अभियान,स्वच्छ जल स्वच्छ मन

ऋषिकेश। स्वच्छ जल और स्वच्छ मन की टैग लाइन के साथ प्रोजेक्ट अमृत के तहत संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तहत जानकी सेतु से रामझूला तक स्वच्छता अभियान चलाया गया।

रविवार को संत निरंकारी मंडल की ऋषिकेश ब्रांच ने प्रोजेक्ट अमृत के अंतर्गत स्वच्छ जल स्वच्छ मन परियोजना के दूसरे चरण में जानकी सेतु से रामझूला तक स्वच्छता अभियान चलाया। प्रार्थना के साथ शुरू हुए अभियान में निरंकारी मिशन के कार्यकर्ताओं ने मुख्य मार्ग और घाटों की सफाई की झाड़ू लगाकर सफाई की गई।

एसएनसीएफ के वॉलिंटियर्स ने सभी घाटों पर रामसेतु से लेकर रामझूला तक झाड़ू लगाकर साफ कर कूड़े को एकत्रित कर बागों में भरकर नगर पंचायत कर सहयोग से उचित स्थान पर पहुंचाया गया। एसएनसीएफ, सेवादल, साध संगत के लगभग 550 वॉलिंटियर्स ने इस सफाई अभियान में योगदान दिया।

सफाई अभियान में परमार्थ निकेतन और संत निरंकारी मिशन की रायवाला एवं भोगपुर की ब्रांचों ने भी सहयोग किया।बाल संगत के बच्चों ने नाटिका द्वारा जल बचाओ और जल संरक्षण का संदेश दिया। इस परियोजना समूचे भारतवर्ष के लगभग 1500 से भी अधिक स्थानों के 900 शहरों के 27 राज्यों में सफाई अभियान चलाया गया ।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि परमार्थ निकेतन की साध्वी भगवती सरस्वती जी ने अपने विचारों में कहा कि कोई गुरु अपनी सेवा के लिए नहीं कहता वह केवल समाज की सेवा की ही प्रेरणा देता है। सेवा करने से तन और मन दोनों स्वस्थ रहते है।

जल की स्वच्छता से जरूरी जल का बचाव है हम अपने जीवन में अनेक कार्य में आवश्यकता से अधिक जल का प्रयोग करते हैं अगर हम सब अपने जीवन में जल को बचाना सीख जाए तो वास्तव में जल का संरक्षण होगा। कार्यक्रम का संचालन उच्च प्रशासनिक अधिकारी दुर्गा चमोली ने किया ।

Related Articles

Back to top button