उत्तराखंड

बाल्मिकी समाज आज भी समानता से कोसो दूर: तेश्वर

बैठक कर रोष जताया

जयपाल सिंह

हरिद्वार ।चमार वाल्मीकि महासंघ के कार्यकर्ताओं ने अपने पुरखे बामसेफ के संस्थापक सदस्य माननीय दीना भाना के जन्म दिवस के अवसर पर कनखल वाल्मीकि आश्रम में चौधरी सुरेंद्र तेश्वर की अध्यक्षता में उत्तर प्रदेश के जिला अलीगढ़ की तहसील टप्पल के गांव रायगढ़ी के ग्राम प्रधान श्री कालीचरण वाल्मीकि जी की पत्नी के शव का दाहसंस्कार करने वालों के विरोध में बैठक कर मृतक की आत्मा को शांति एवं पीड़ित परिवार को यह असीम दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना का प्रस्ताव पारित किया गया है।
पंचायत के अध्यक्ष चौधरी सुरेंद्र तेश्वर ने कहा कि बहुत ही दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि आजादी के 77 साल बाद उत्तर प्रदेश के जिला अलीगढ़ के ग्राम रायगढ़ी के ग्राम प्रधान कालीचरण वाल्मीकि की मृतक पत्नी का श्मशान घाट में अंतिम संस्कार करने से रोक कर मनुवादियों ने देश के मूल निवासी बहुजन समाज का घोर अपमान कर गंभीर अपराध किया है इससे समाज में भारी आक्रोश है।।इस अमानवीय कृत्य की मूल निवासी बहुजन समाज कड़े शब्दों में घोर निंदा करता है और सरकार से मांग करता है कि दोषियों के खिलाफ अविलंब कड़ी कार्यवाही की जाए।

चमार बाल्मिकी संघ के संस्थापक अध्यक्ष भंवर सिंह ने कहा कि जहां एक और केंद्र की बीजेपी सरकार सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास की बात करती है वही आज भी हिंदू कहे जाने वाले बाल्मिकी समाज की महिला का अंतिम संस्कार पुलिस की मौजूदगी में होना दर्शाता है कि आज भी दलितों के प्रति सवर्ण समाज और सरकार की मानसिकता क्या है? एक और मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री बाल्मिकी समाज के लोगो के पैर धोते है और दूसरी ओर इस प्रकार की घटनाओं पर चुप्पी साध लेते है।

Related Articles

Back to top button